Skip to main content

History of Education System in India

आरम्भिक समय में लगभग आठवीं शताब्दी ईसा पूर्व से ही भारत में उच्च शिक्षा का सबसे पहला केंद्र तक्षशिला(आधुनिक पकिस्तान में स्थित) माना जाता है, और यह तर्क का विषय है कि क्या इसे मॉडर्न अर्थों में विश्वविद्यालय माना जा सकता है? क्योंकि यहां पर रहने वाले अध्यापक आधिकारिक नहीं हो सकते थे। विशेष कॉलेजों की सदस्यता एवं बाद में नालंदा विश्वविद्यालय के मुकाबले तक्षशिला में उद्देश्य से निर्मित व्याख्यान हॉल और आवासीय क्वार्टरों का अस्तित्व नहीं था। नालंदा विश्वविद्यालय के आधुनिक अर्थों में दुनिया में शिक्षा का सबसे पुराना विश्वविद्यालय-तंत्र था तथा वहाँ पर सभी विषयों को पाली भाषा में पढ़ाया जाता था। इसके बाद बौद्ध मठों एवं कुछ धर्मनिरपेक्ष संस्थाओं का विकास हुआ जिन्होंने बाद में व्यावहारिक शिक्षा प्रदान करने पर बल दिया| 500 BCE से 400 CE के बीच के समय में कई शहरी शिक्षा केंद्र तेजी से दिखाई देने लगे। शिक्षा के बहुत से महत्वपूर्ण शहरी केंद्र नालंदा (बिहार) और नागपुर में मनसा थे। इन संस्थानों ने व्यवस्थित रूप से ज्ञान प्रदान किया और कई विदेशी छात्रों को आकर्षित किया जैसे कि बौद्ध पाल्ली साहित्य, तर्कशास्त्र तथा पालि व्याकरण, इत्यादि विषयों का अध्ययन करने के लिए, चाणक्य, एक ब्राह्मण शिक्षक, मौर्य साम्राज्य के संस्थापक होने से जुड़े सबसे प्रसिद्ध शिक्षकों में से एक थे।
ब्राह्मणों  और सामन्त गुरुओं ने शुल्क  के लिए छात्रों या उनके अभिभावकों से धन की खरीद के बजाय दान के माध्यम से ऐतिहासिक रूप में शिक्षा की पेशकश की। बाद में स्तूपों तथा मंदिरों को भी शिक्षा के केंद्र बनाया  गया; धार्मिक शिक्षा अनिवार्य कर दी गयी थी, लेकिन धर्मनिरपेक्ष विषय भी पढ़ाए जाते थे। छात्रों का  ब्रह्माचारी होना आवश्यक था। इन आदेशों में ज्ञान उन कार्यों से संबंधित था जिनका समाज के कुछ वर्ग को प्रदर्शन करना था, जैसे पुरोहित वर्ग, सामंतों को धर्म, दर्शन और अन्य सहायक शाखाओं का ज्ञान प्रदान किया गया, जबकि योद्धा वर्ग, क्षत्रिय, को युद्ध के विभिन्न पहलुओं में प्रशिक्षित किया गया। व्यापारी वर्ग, वैश्य, को उनके व्यापार की शिक्षा दी गई और शूद्रों का श्रमिक वर्ग आम तौर पर शैक्षिक लाभ से वंचित रहा।

आधुनिक समय में भारत में शिक्षा निजी और सार्वजनिक(सरकारी) स्कूलों द्वारा प्रदान की जाती है। पब्लिक या सार्बजनिक स्कूल तीन स्तरों द्वारा नियंत्रित और वित्त पोषित होते हैं: केंद्रीय, राज्य और स्थानीय। भारत में निजी स्कूलों के मुकाबले में पब्लिक स्कूलों का अनुमानित अनुपात 7: 5 है। भारतीय संविधान के विभिन्न लेखों के तहत, 6 वर्ष से 14 वर्ष की आयु के बच्चे को एक मौलिक अधिकार के रूप में निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा प्रदान की जाती है। हमारे देश ने प्राथमिक शिक्षा की प्राप्ति दर को बढ़ाने में बहुत उन्नति की है। गौरतलब है कि 2011 में 7 से 10 वर्ष की आयु के लगभग पचहत्तर प्रतिशत लोग ही शिक्षित थे। यहाँ की बेहतर शिक्षा प्रणाली को इसके आर्थिक विकास में मुख्य योगदानकर्ताओं में से एक के रूप में जाना जाता है। अधिकांश प्रगति, विशेष रूप से उच्च शिक्षा और वैज्ञानिक अनुसंधान में, विभिन्न सार्वजनिक संस्थानों को श्रेय दिया गया है। जबकि पिछले एक दशक में उच्च शिक्षा में नामांकन लगातार बढ़ा है, 2013 में चौबीस प्रतिशत के सकल नामांकन अनुपात तक पहुंचते हुए, विकसित देशों के उच्च  शिक्षा नामांकन स्तरों के साथ पकड़ने के लिए अभी भी एक महत्वपूर्ण दूरी बनी हुई है, जिसे दूर करना हमारे देश के लिए लिए एक बहुत बड़ी चुनौती है। इसका एक महत्ब्पूर्ण कारण देश की अत्यधिक जनसँख्या भी है | 
प्राथमिक और माध्यमिक स्तर पर, भारत में एक बड़ी निजी शिक्षा प्रणाली है जो 6 से 14 आयु वर्ग में निजी शिक्षा प्राप्त करने वाले उनतीस प्रतिशत छात्रों के लिए निजी स्कूलों को संचालित करती है। कुछ विशिष्ट माध्यमिक टेक्निकल स्कूल भी निजी हैं। शिक्षा रिपोर्ट (एएसईआर) 2012 की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार 6-14 साल  की आयु के बीच के सभी ग्रामीण बच्चों में से 96.5 प्रतिशत स्कूल में नामांकित थे। भारत ने वर्ष 2007 से 2014 तक इस आयु वर्ग में छात्रों के लिए औसत नामांकन अनुपात पिचानवे प्रतिशत बनाए रखा है। इसके फल स्वरूप 6-14 आयु वर्ग के छात्रों की संख्या स्कूल में दाखिला नहीं होने वाली संख्या में  2.8% तक कमी हो गई है। 2013 की एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया कि भारत के विभिन्न मान्यता प्राप्त शहरी और ग्रामीण स्कूलों में कक्षा 9 से लेकर 12 वीं तक कुल दो करोड़ उन्तीस लाख छात्र नामांकित थे, जो कि 2002 के कुल नामांकन में 23 लाख छात्रों की वृद्धि का प्रतिनिधित्व करता है, और लड़कियों के नामांकन में 19% की वृद्धि हुई है। जबकि भारत मात्रात्मक रूप से सार्वभौमिक शिक्षा के करीब है, इसकी शिक्षा की गुणवत्ता पर विशेष रूप से इसकी सरकार द्वारा संचालित स्कूल प्रणाली में सवाल उठाया गया है। हालांकि, पिचानवे प्रतिशत से अधिक बच्चे प्राथमिक विद्यालय में पढ़ते हैं, सिर्फ 40 प्रतिशत भारतीय किशोर माध्यमिक विद्यालय में पढ़ते हैं। खराब गुणवत्ता के कुछ कारणों में हर दिन लगभग 25% शिक्षकों की अनुपस्थिति शामिल है। भारत के राज्यों ने ऐसे स्कूलों की पहचान करने और उन्हें बेहतर बनाने के लिए परीक्षण और शिक्षा मूल्यांकन प्रणाली शुरू की है। हालांकि भारत में निजी स्कूल हैं, लेकिन वे जो सिखा सकते हैं, वे किस रूप में काम कर सकते हैं और संचालन के अन्य सभी पहलुओं के संदर्भ में अत्यधिक विनियमित हैं। इसलिए, सरकारी स्कूलों और निजी स्कूलों का भेदभाव भ्रामक हो सकता है।
इस समय भारत में लगभग नौ सौ से ज्यादा विश्वविद्यालय और चालीस हज़ार कॉलेज हैं। भारत की उच्च शिक्षा प्रणाली में, ऐतिहासिक रूप से वंचित अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों और अन्य पिछड़े वर्गों के लिए उच्च कार्रवाई नीतियों के तहत प्रमुख रूप से सीटें आरक्षित हैं। विश्वविद्यालयों, कॉलेजों और संघीय सरकार से संबद्ध समान संस्थानों में, इन वंचित समूहों पर लागू अधिकतम 50% आरक्षण है तथा राज्य स्तर पर यह अलग-अलग हो सकता है। जैसा कि 2014 में  सर्वे के अनुसार महाराष्ट्र में भारत के आरक्षण का उच्चतम प्रतिशत था जो कि 73% आरक्षण था। हालांकि शिक्षा के क्षेत्र में भारत ने बहुत ज्यादा तरक्की की है परन्तु शिक्षा के व्यापारिकरण के कारण बहुत से मेधावी छात्रों को जरुरी शिक्षा से बंचित रहना पड़ता है | देश एवं प्रदेश की सरकारों को अभी भी इस विषय में ध्यान देने की जरुरत है | पढ़ेगा, तभी तो बढ़ेगा 

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

What is Blood pressure

 What is Blood pressure
Blood pressure is that pressure of blood on the walls of arteries as your heart pumps it around your body. It is an important a part of our heart and circulation function.

Your vital sign naturally goes up and down all the time, adjusting to your heart’s desires betting on what you're doing. High vital sign is once your blood pressure is persistently above traditional. A vital sign reading beneath 120/80mmHg is taken into account best. Readings over 120/80mmHg and up to 139/89mmHg are within the traditional to high normal vary. Blood pressure that’s high over a protracted time is one in all the most risk factors for heart condition. As you become older, the possibilities of getting persistently high vital sign will increase. It’s vital to induce your vital sign checked often, and if it’s persistently high it has to be controlled. Uncontrolled high vital sign will cause a heart failure or stroke. it should conjointly have an effect on your kidneys. The medical…

Benefits of Drinking Copper Water

तांबे के बर्तन में  रखा पानी पीने के फायदे
दोस्तों क्या आपको पता है की अगर आप ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी पिएंगे तो आपको क्या फायदे मिलेंगे? आपने कई लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि तांबे के बर्तन में रखे गए पानी को पीने से कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। कुछ लोग तो पानी पीने के लिए तांबे से बने गिलास, लोटे और जग का ही उपयोग करते हैं।

 आज हम आपको बतायेंगे कि आयुर्वेद के अनुसार अगर आप ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी पियेंगे तो आपकी सेहत के लिए बहुत ज्यादा फ़ायदेमंद होगा | अगर आपके शरीर में दर्द या सूजन की तकलीफ़ रहती है तो आपको ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी पीना चाहिए, इससे आपके शरीर की दर्द, ऐंठन तथा सूजन जैसी समस्याों को ठीक होने में समय नहीं लगेगा | दोस्तों अगर आपको ऑर्थराइट्स की समस्या रहती है, तो ताम्बे का पानी आपके लिए बहुत गुणकारी रहेगा क्योंकि यह एन्टी इन्फ्लैमटरी प्रकृति से भरा होता है| 

ताम्बे के बर्तन में रखा पानी पीने से शरीर में तांबा तत्व की कमी पूरी हो जाती है, तथा इसकी बजह से होने वाले जीवाणुओं का भी अंत हो जाता है | पेट की समस्याएं कब्ज, एसिडिटी तथा गैस तांबे के बर्त…