Skip to main content

Names of All Prime Ministers of India

S.N.           Name Born-Death                   Service Tenure
1 Sh. Jawahar Lal Nehru (1889–1964) 5 August 1947-27 May 1964(16 years, 286 days)
2 Sh. Gulzarilal Nanda (1898–1998) 27 May,1964 to 9 June 1964,(13 days)
3 Sh. Lal Bahadur Shastri (1904–1966) 9 June, 1964 to 11 January 1966(1 year, 216 days)
4 Smt. Indira Gandhi (1917–1984) 24 January 1966 to 24 March 1977(11 years, 59 days)
5 Sh. Morarji Desai (1896–1995) 24 March 1977 – 28 July 1979 (2 year, 116 days)
6 Sh. Charan Singh (1902–1987) 28 July, 1979 to 14 Jan. 1980(170 days)
7 Smt. Indira Gandhi (1917–1984) 14 Jan.1980 to 31 Oct. 1984(4 years, 291 days)
8 Sh. Rajiv Gandhi (1944–1991) 31 Oct, 1984 to 2 Dec. 1989(5 years, 32 days)
9 Sh. V. P. Singh (1931–2008) 2 Dec. 1989 to 10 Nov. 1990(343 days)
10 Sh. Chandra Shekhar (1927–2007) 10 November,1990 to 21 June 1991(223 days)
11 Sh. P. V. Narasimha Rao (1921–2004) 21 June 1991 to 16 May 1996(4 years, 330 days)
12 Sh. Atal Bihari Vajpayee (1924-2018) 16 May, 1996 to 1 June 1996(16 days)
13 Sh. H. D. Deve Gowda (Born 1933) 1 June, 1996 to 21 April 1997(324 days)
14 Sh. Inder Kumar Gujral (1919–2012) 21 April 1997 to 19 March, 1998  (332 days)
15 Sh. Atal Bihari Vajpayee (1924-2018) 19 March, 1998 to 22 May 2004 (6 years, 64 days)
16 Sh. Manmohan Singh (Born 1932) 22 May 2004 to 26 May 2014   (10 years, 4 May 2 days)
17 Sh. Narendra Modi (Born 1950) 26 May 2014, Serving

Comments

Popular posts from this blog

History of Education System in India

भारत में शिक्षा का इतिहास आरम्भिक समय में लगभग आठवीं शताब्दी ईसा पूर्व से ही भारत में उच्च शिक्षा का सबसे पहला केंद्र तक्षशिला(आधुनिक पकिस्तान में स्थित) माना जाता है, और यह तर्क का विषय है कि क्या इसे मॉडर्न अर्थों में विश्वविद्यालय माना जा सकता है? क्योंकि यहां पर रहने वाले अध्यापक आधिकारिक नहीं हो सकते थे। विशेष कॉलेजों की सदस्यता एवं बाद में नालंदा विश्वविद्यालय के मुकाबले तक्षशिला में उद्देश्य से निर्मित व्याख्यान हॉल और आवासीय क्वार्टरों का अस्तित्व नहीं था। नालंदा विश्वविद्यालय के आधुनिक अर्थों में दुनिया में शिक्षा का सबसे पुराना विश्वविद्यालय-तंत्र था तथा वहाँ पर सभी विषयों को पाली भाषा में पढ़ाया जाता था। इसके बाद बौद्ध मठों एवं कुछ धर्मनिरपेक्ष संस्थाओं का विकास हुआ जिन्होंने बाद में व्यावहारिक शिक्षा प्रदान करने पर बल दिया| 500 BCE से 400 CE के बीच के समय में कई शहरी शिक्षा केंद्र तेजी से दिखाई देने लगे। शिक्षा के बहुत से महत्वपूर्ण शहरी केंद्र नालंदा (बिहार) और नागपुर में मनसा थे। इन संस्थानों ने व्यवस्थित रूप से ज्ञान प्रदान किया और कई विदेशी छात्रों को आकर्षित किया जैसे …

What is Blood pressure

 What is Blood pressure
Blood pressure is that pressure of blood on the walls of arteries as your heart pumps it around your body. It is an important a part of our heart and circulation function.

Your vital sign naturally goes up and down all the time, adjusting to your heart’s desires betting on what you're doing. High vital sign is once your blood pressure is persistently above traditional. A vital sign reading beneath 120/80mmHg is taken into account best. Readings over 120/80mmHg and up to 139/89mmHg are within the traditional to high normal vary. Blood pressure that’s high over a protracted time is one in all the most risk factors for heart condition. As you become older, the possibilities of getting persistently high vital sign will increase. It’s vital to induce your vital sign checked often, and if it’s persistently high it has to be controlled. Uncontrolled high vital sign will cause a heart failure or stroke. it should conjointly have an effect on your kidneys. The medical…

Benefits of Drinking Copper Water

तांबे के बर्तन में  रखा पानी पीने के फायदे
दोस्तों क्या आपको पता है की अगर आप ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी पिएंगे तो आपको क्या फायदे मिलेंगे? आपने कई लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि तांबे के बर्तन में रखे गए पानी को पीने से कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। कुछ लोग तो पानी पीने के लिए तांबे से बने गिलास, लोटे और जग का ही उपयोग करते हैं।

 आज हम आपको बतायेंगे कि आयुर्वेद के अनुसार अगर आप ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी पियेंगे तो आपकी सेहत के लिए बहुत ज्यादा फ़ायदेमंद होगा | अगर आपके शरीर में दर्द या सूजन की तकलीफ़ रहती है तो आपको ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी पीना चाहिए, इससे आपके शरीर की दर्द, ऐंठन तथा सूजन जैसी समस्याों को ठीक होने में समय नहीं लगेगा | दोस्तों अगर आपको ऑर्थराइट्स की समस्या रहती है, तो ताम्बे का पानी आपके लिए बहुत गुणकारी रहेगा क्योंकि यह एन्टी इन्फ्लैमटरी प्रकृति से भरा होता है| 

ताम्बे के बर्तन में रखा पानी पीने से शरीर में तांबा तत्व की कमी पूरी हो जाती है, तथा इसकी बजह से होने वाले जीवाणुओं का भी अंत हो जाता है | पेट की समस्याएं कब्ज, एसिडिटी तथा गैस तांबे के बर्त…